फटाफट TOP 10: आज की 10 बड़ी खबरें
जब एक फोटो ने कारण मायावती ने काट दिया टिकट
क्या हुआ जब मज़दूर को दुत्कार कर भगाया इंस्पेक्टर ने : रियल लाइफ का सिंघम
नहीं है छत, नहीं है दीवारें, बस खून-पसीने की मेहनत और खड़ा किया देश का सबसे अनूठा स्कूल
जब IAS अधिकारी का पद छोड़ अध्यापक बन गया 24 साल का युवक
इस गाँव में होती है अफसरों की फसल :
नए साल की धमाकेदार शुरुआत, हुआ पहला घोटाला :जानिये कौन है ये नया लुटेरा
बदलने लगी है भारतीय रेलवे की तस्वीर : ऐसे होंगे नए कोच
इसलिए सेक्स से डरती हैं लडकियां
क्या किसी देश की राष्ट्रपति इतनी हॉट हो सकती है?
पठानकोट हमले का खुलासा किसने लगाई सुरक्षा में सेंध ?
और फिर हम कहते हैं कि सरकार काम नहीं कर रही : क्या इस तरह आएंगे अच्छे दिन?
जब ऑड ईवन फार्मूले पर निकला एक दिल्ली वाले का दर्द : जानिये क्या क्या कहा
पैन कार्ड नहीं है तो हो जाएँ आज से सावधान
हैवानियत का चरम : क्या हुआ ISIS के चंगुल से भागी इन दो लड़कियों के साथ
नीच ISIS का एक और कुकृत्य हुआ उजागर: दासियों से बलात्कार के भी बनाये नियम
न्यू ईयर पार्टी में जाने से पहले जरूर रखें इन बातों का ख्याल
साल 2015: क्या क्या हुआ दुनिया भर में: Special Report News75
इस फिल्म में सनी लीओन ने दिखाया अपना फुल पोर्न रूप , दिए जमकर न्यूड सीन
साल भर में जनता को क्या दिया मोदी ने - डिजिटल लॉकर से स्मार्ट सिटी तक, News75 Special, साल 2015
भारत की 10 आवाज़ें जो सदियों तक गूंजेंगी

अपने जीवन में हमने बहुत से गायकों को सुना होगा, उनमें से कई सुपर डुपर हिट रहे , तो कईयों के हम लोग फैन रहे, मगर उनमें से कुछ गायक ऐसे भी हैं जिनके हिट होने का कोई सीमित समय नहीं था, वे कल भी सुपर हिट थे और आज भी लोगों के जेहन में गूंजते रहते हैं | सचमुच वे सालों के नहीं युगों के गायक हैं, जिनकी आवाज आज भी गूंजा करती है, और आने वाली सदियों तक लोगों को अपना दीवाना बनाती रहेगी | आइये मिलते हैं ऐसे दस सर्वश्रेष्ठ गायकों से:

10. इस कड़ी में पहले गायक हैं पंकज उधास :

इन्होने ग़ज़ल गायकी से शुरुआत की थी और धीरे धीरे इनकी हद सौम्य आवाज़ हर दिल में घर कर गयी , " चिट्ठी आई है " गाकर इन्होने अपनी आवाज़ को युगों युगों के लिए जग में विद्यमान कर दिया |

9. राहत फ़तेह अली खान :

यूं तो राहत पाकिस्तान के रहने वाले हैं मगर इनकी आवाज़ ने असली पहचान भारत में पायी जहां, इन्होने अपनी बुलंदी के सितारे छुए, अपनी खनकती आवाज़ और पंडित नुसरत की शागिर्दगी ने इन्हें सर्वकालिक गायकों की श्रेणी में खड़ा कर दिया | तेरे मस्त मस्त दो नैन....

8. आशा भोसले :

आशा दी से कौन परिचित नहीं हैं, लता दीदी की छोटी बहन आशा जी हमेशा से ही पार्श्वगायकी की सिरमौर रहीं हैं, उनकी बेमिसाल आवाज़ और अतुलनीय गायकी उन्हें सबसे अलग बनाती है| वे सदा सदा की गायिका हैं | दो लफ़्ज़ों की है दिल की कहानी....

7. जगजीत सिंह :

जगजीत सिंह वे नाम हैं जिनसे ग़ज़ल गायकी की पहचान है, सौम्य स्वर में ग़ज़ल गाने वाले जगजीत ने अपने स्वरों से जग भर के दिल जीते हैं, उनके गायन की विविधता उन्हें सर्वकालिक महान गायक बनाती है | भले ही जगजीत सिंह हमारे साथ न हों, लेकिन उनकी ग़ज़लें आने वाली सदी तक नही मिटेंगीं | वो काग़ज़ की कश्ती वो बारिश का पानी.....

6. रेशमा :

पाकिस्तान की गायिका रेशमा के चेहरे से आप में से बहुत आम परिचित होंगे मगर इनका स्वर आप सब के दिलों में बस्ता है | वह स्वर तो आपको याद ही होगा " बिछड़े भी तो हम...बस कल परसों...जियुंगी मैं कैसे इस हाल में बरसो" | जी हाँ "लम्बी जुदाई" इस विश्व प्रसिद्द गीत को गाने वाली रेशमा ही हैं|

5. मोहम्मद रफ़ी:

जिन्हें दुनिया रफ़ी या रफ़ी साहब के नाम से बुलाती है, हिन्दी सिनेमा के श्रेष्ठतम पार्श्व गायकों में से एक थे। अपनी आवाज की मधुरता और परास की अधिकता के लिए इन्होंने अपने समकालीन गायकों के बीच अलग पहचान बनाई। इन्हें शहंशाह-ए-तरन्नुम भी कहा जाता था। लिखे जो खत तुझे...

4. किशोर कुमार:

किशोर दा अपने आप में एक कला का संसार हैं, वे एक सम्पूर्ण कलाकार थे, और गायन में तो उनका कोई तोड़ ही नहीं वे चाहे उल्लास के गीत गायें या गम के नग़मे ; किशोर दा गीतों को रूह से छू कर गाते थे, जिनकी कशिश श्रोता आज भी महसूस करते हैं| मेरा जीवन कोर कागज़ जैसे गीतों से उन्होंने गायकी के एक सहज रूप को उन्नति प्रदान की

3. मुकेश:

मुकेश साहब के तो कहने ही क्या , वे जब सुर लगाते थे तो बस सदियाँ ठहर जाया करती थीं, उनके गीतों में एक टूटे दिल की खनक होती थी , जो मुहब्बत की पुरकशिश महसूस कराती थी | "कहीं...दूर...जब दिन ढल जाए " गाने वाले मुकेश साहब अपने सुरों में शिद्दत से रमे हुए थे | वे आज या कल के नहीं सदियों सदियों के स्वर हैं |

2. लता मंगेशकर :

लता दीदी हम सबकी पूजनीय हैं; उन्हें स्वर साम्राज्ञी भी इसी लिए कहा जाता है क्यों कि ना तो इस काल में और ना आने वाले कई युगों में उनके जैसी आवाज़ फिर कबि हो सकती है, वे दुनिया भर के संगीत प्रेमियों में विद्यमान हैं | "ऐ मेरे वतन के लोगो" गाने के बाद वे राष्ट्रस्वर बन चुकी हैं | कोटि कोटि नमन भारत की स्वर कोकिला को |

1. नुसरत फ़तेह अली खान:

नुसरत साहब वैसे तो पाकिस्तान के सूफी गायक हैं , मगर पाकिस्तान से ज्यादा इन्हें भारत में सुनने वाले हैं | भारत के संगीत प्रेमी इन्हें पंडित नुसरत भी कहते हैं | नसरत साहब अपने आप में एक सर्वोच्च गायक थे , सूफी की सच्ची पहचान इन्ही से है | इनके स्वर दिलों को नहीं सीधे ईश्वर को छूते थे , जैसे गा न रहे हों आराधना कर रहे हों | धर्म मज़हब से उठकर परमशक्ति को अपने गायन से अनुभव करा देने वाले नुसरत अद्भुत थे | पलभर मे कैसे बदलते हैं रिश्ते, अब तो हर अपना बेगाना लगता है....

प्रतिक्रिया दीजिए