फटाफट TOP 10: आज की 10 बड़ी खबरें
जब एक फोटो ने कारण मायावती ने काट दिया टिकट
क्या हुआ जब मज़दूर को दुत्कार कर भगाया इंस्पेक्टर ने : रियल लाइफ का सिंघम
नहीं है छत, नहीं है दीवारें, बस खून-पसीने की मेहनत और खड़ा किया देश का सबसे अनूठा स्कूल
जब IAS अधिकारी का पद छोड़ अध्यापक बन गया 24 साल का युवक
इस गाँव में होती है अफसरों की फसल :
नए साल की धमाकेदार शुरुआत, हुआ पहला घोटाला :जानिये कौन है ये नया लुटेरा
बदलने लगी है भारतीय रेलवे की तस्वीर : ऐसे होंगे नए कोच
इसलिए सेक्स से डरती हैं लडकियां
क्या किसी देश की राष्ट्रपति इतनी हॉट हो सकती है?
पठानकोट हमले का खुलासा किसने लगाई सुरक्षा में सेंध ?
और फिर हम कहते हैं कि सरकार काम नहीं कर रही : क्या इस तरह आएंगे अच्छे दिन?
जब ऑड ईवन फार्मूले पर निकला एक दिल्ली वाले का दर्द : जानिये क्या क्या कहा
पैन कार्ड नहीं है तो हो जाएँ आज से सावधान
हैवानियत का चरम : क्या हुआ ISIS के चंगुल से भागी इन दो लड़कियों के साथ
नीच ISIS का एक और कुकृत्य हुआ उजागर: दासियों से बलात्कार के भी बनाये नियम
न्यू ईयर पार्टी में जाने से पहले जरूर रखें इन बातों का ख्याल
साल 2015: क्या क्या हुआ दुनिया भर में: Special Report News75
इस फिल्म में सनी लीओन ने दिखाया अपना फुल पोर्न रूप , दिए जमकर न्यूड सीन
साल भर में जनता को क्या दिया मोदी ने - डिजिटल लॉकर से स्मार्ट सिटी तक, News75 Special, साल 2015
आखिर क्या है राज़ क्रिसमस ट्री का : क्या आपने भी सुनी है सर्दी में ठिठुरते बालक की कहानी ?

1. क्या होता है क्रिसमस ट्री?

क्रिसमस ट्री अर्थात क्रिसमस वृक्ष का क्रिसमस के मौके पर विशेष महत्व है। क्रिसमस ट्री ,जिस पर क्रिसमस के दिन बहुत सजावट की जाती है, एक सदाबहार वृक्ष है जो डगलस, बालसम या फर का पौधा होता है | फर के अलावा लोग चैरी के वृक्ष को भी क्रिसमस ट्री के रूप में सजाते थे। अगर लोग क्रिसमस ट्री को लेने में सक्षम नहीं होते थे तब वे लकड़ी के पिरामिड को एप्पल और अन्य सजावटों से इस प्रकार सजाते थे कि यह क्रिसमस ट्री की तरह लगे क्योंकि क्रिसमस ट्री का आकार भी पिरामिड के जैसा ही होता है।

2. क्यों सजाया जाता है क्रिसमस ट्री?

यूं तो इसके कारण के कोई दृढ प्रमाण उपलब्ध नहीं हैं फिर भी माना ये जाता है कि प्राचीनकाल में

रोमनवासी फर के वृक्ष को अपने मंदिर सजाने के लिए उपयोग करते थे। यूरोप के लोग भी सदाबहार

पेड़ की मालाओं, पुष्पहारों को जीवन की निरंतरता का प्रतीक मानते थे इसलिए ये लोग सदाबहार पौधों - पत्तियों से घरों को सजाते थे। उनका विश्वास था कि इन पौधों को घरों में सजाने से बुरी आत्माएं दूर

रहती हैं। यूं तो सदियों से सदाबहार फर को क्रिसमस ट्री के रूप में सजाने की परंपरा रही है। लेकिन

‍यीशू को मानने वाले लोग इसे ईश्वर के साथ अनंत जीवन के प्रतीक के रूप में सजाते हैं।

3. कब शुरू हुई ये प्रथा?

क्रिसमस ट्री सजाने की परंपरा की शुरुआत कई सदी पूर्व उत्तरी यूरोप से हुई , मगर माना जाता है कि इसे सजाने की प्रथा की शुरुआत प्राचीन काल में मिस्रवासियों, चीनियों या हिबू्र लोगों ने की थी। । पहले के समय में क्रिसमस ट्री गमले में रखने की जगह छतों से लटकाए जाते थे।

4. क्रिसमस ट्री की कहानी :

क्रिसमस ट्री को लेकर एक कहानी बहुत मशहूर है- हुआ यूं कि एक बार क्रिसमस पूर्व की रात में जब सर्दी कड़ाके की थी और बर्फ गिर रही थी ऐसे में एक बहुत छोटा सा बालक घूमते हुए अपने घर से दूर निकल जाता है। उस खोये हुए बच्चे को जब ठंड लगती है तब ठंड से बचने के लिए वह उपाय तलाश करता है तभी उसको एक झोपड़ी दिखाई देती है। उस झोपड़ी में एक लकड़हारा रहता था जो तब अपने परिवार के साथ अलाव ताप रहा था। वह छोटा बच्चा दरवाज़ा खटखटाता है । लकड़हारा दरवाज़ा खोलता है और बालक को ठंड में ठिठुरता देख अंदर बुला लेता है। उसकी पत्नी उस बालक को दुलार कर खाना खिलाती है और अपने सबसे छोटे बेटे के साथ उसे सुला देती है। क्रिसमस की सुबह लकड़हारे और उसके परिवार की नींद स्वर्गदूतों के गायन स्वर से खुलती है और वे देखते हैं कि वह छोटा बालक यीशु मसीह के रूप में बदल गया है। यीशु बाहर जाते हैं और फर वृक्ष की एक डाल तोड़कर उस परिवार को धन्यवाद कहते हुए देते हैं। तभी से प्रत्येक ईसाई परिवार अपने घर में फर की पत्तियों वाला क्रिसमस ट्री सजाता है।

क्या आपने सुनी हैं क्रिसमस से जुडी ये कहानियाँ: क्यों होता है 25 दिसंबर

आपके घर भी जरूर आया होगा सांता क्लॉज़

प्रतिक्रिया दीजिए