आरएसपुरा की बीएसएफ किचन का जायजा : मेन्यू में पनीर-दाल, किसी जवान को कोई शिकायत नहीं
बीएसएनएल का धमाका : यह ऐप डाउनलोड करते ही स्मार्टफोन करेगा लैंडलाइन फोन का काम
दिल्ली में चिकनगुनिया के दो नए मामले सामने आए
नोटबंदी से असंगठित क्षेत्र के करोड़ों मजदूरों का रोजगार छिना : भारतीय मजदूर संघ
नरोदा पाटिया नरसंहार : आजीवन कारावास काट रहे बाबू बजरंगी ने हाईकोर्ट से जमानत अर्जी वापस ली
नए CBI प्रमुख पर पीएम की अध्यक्षता वाली बैठक तो हुई, लेकिन नहीं हुई नाम की घोषणा
जवानों के शिकायती वीडियो पर रक्षा मंत्रालय चौकस, सेवादारी सिस्टम की समीक्षा होगी
बिहार : जहानाबाद में प्रधानाध्यापक और तीन शिक्षकों पर किशोरी से गैंगरेप का आरोप
महाराष्ट्र : बीड़ जिले में शिक्षक पर छात्राओं का यौन शोषण करने का आरोप
करोड़पति बनाने वाली फरवरी की चौंकाने वाली सच्चाई!
अफसरों की शिकायत करने वाले एनएसजी कमांडो ओमप्रकाश पांच साल से लापता
गोवा चुनाव : पैसे स्वीकार कर लेना वाली टिप्पणी के लिए अरविंद केजरीवाल को चुनाव आयोग का नोटिस
अनशन कर रही लांस नायक यज्ञ प्रताप की पत्नी की तबीयत बिगड़ी, अस्पताल में भर्ती
जीएसटी टला, अब 1 अप्रैल से नहीं, 1 जुलाई से लागू होगा : वित्तमंत्री अरुण जेटली
यूपी में नए चुनावी समीकरण : एनसीपी सपा के अखिलेश यादव गुट से गठबंधन की इच्छुक
रामगोपाल ने साइकिल सिंबल मिलने पर जताई खुशी, कहा-कांग्रेस के साथ गठबंधन संभव
मैदानी इलाकों की राजनीतिक गर्मी के बीच हिमाचल में बर्फबारी
यदि जेब पर भारी पड़ने लगेंगे पेट्रोल-डीजल के दाम तो सरकार उठा सकती है यह कदम
भाजपा ने जारी की यूपी, उत्तराखंड और पंजाब के उम्मीदवारों की पहली सूची
पत्नी की सीट से लड़ेंगे सिद्धू, बादल के खिलाफ ताल ठोकेंगे कैप्टन
आखिर क्या है राज़ क्रिसमस ट्री का : क्या आपने भी सुनी है सर्दी में ठिठुरते बालक की कहानी ?

1. क्या होता है क्रिसमस ट्री?

क्रिसमस ट्री अर्थात क्रिसमस वृक्ष का क्रिसमस के मौके पर विशेष महत्व है। क्रिसमस ट्री ,जिस पर क्रिसमस के दिन बहुत सजावट की जाती है, एक सदाबहार वृक्ष है जो डगलस, बालसम या फर का पौधा होता है | फर के अलावा लोग चैरी के वृक्ष को भी क्रिसमस ट्री के रूप में सजाते थे। अगर लोग क्रिसमस ट्री को लेने में सक्षम नहीं होते थे तब वे लकड़ी के पिरामिड को एप्पल और अन्य सजावटों से इस प्रकार सजाते थे कि यह क्रिसमस ट्री की तरह लगे क्योंकि क्रिसमस ट्री का आकार भी पिरामिड के जैसा ही होता है।

2. क्यों सजाया जाता है क्रिसमस ट्री?

यूं तो इसके कारण के कोई दृढ प्रमाण उपलब्ध नहीं हैं फिर भी माना ये जाता है कि प्राचीनकाल में

रोमनवासी फर के वृक्ष को अपने मंदिर सजाने के लिए उपयोग करते थे। यूरोप के लोग भी सदाबहार

पेड़ की मालाओं, पुष्पहारों को जीवन की निरंतरता का प्रतीक मानते थे इसलिए ये लोग सदाबहार पौधों - पत्तियों से घरों को सजाते थे। उनका विश्वास था कि इन पौधों को घरों में सजाने से बुरी आत्माएं दूर

रहती हैं। यूं तो सदियों से सदाबहार फर को क्रिसमस ट्री के रूप में सजाने की परंपरा रही है। लेकिन

‍यीशू को मानने वाले लोग इसे ईश्वर के साथ अनंत जीवन के प्रतीक के रूप में सजाते हैं।

3. कब शुरू हुई ये प्रथा?

क्रिसमस ट्री सजाने की परंपरा की शुरुआत कई सदी पूर्व उत्तरी यूरोप से हुई , मगर माना जाता है कि इसे सजाने की प्रथा की शुरुआत प्राचीन काल में मिस्रवासियों, चीनियों या हिबू्र लोगों ने की थी। । पहले के समय में क्रिसमस ट्री गमले में रखने की जगह छतों से लटकाए जाते थे।

4. क्रिसमस ट्री की कहानी :

क्रिसमस ट्री को लेकर एक कहानी बहुत मशहूर है- हुआ यूं कि एक बार क्रिसमस पूर्व की रात में जब सर्दी कड़ाके की थी और बर्फ गिर रही थी ऐसे में एक बहुत छोटा सा बालक घूमते हुए अपने घर से दूर निकल जाता है। उस खोये हुए बच्चे को जब ठंड लगती है तब ठंड से बचने के लिए वह उपाय तलाश करता है तभी उसको एक झोपड़ी दिखाई देती है। उस झोपड़ी में एक लकड़हारा रहता था जो तब अपने परिवार के साथ अलाव ताप रहा था। वह छोटा बच्चा दरवाज़ा खटखटाता है । लकड़हारा दरवाज़ा खोलता है और बालक को ठंड में ठिठुरता देख अंदर बुला लेता है। उसकी पत्नी उस बालक को दुलार कर खाना खिलाती है और अपने सबसे छोटे बेटे के साथ उसे सुला देती है। क्रिसमस की सुबह लकड़हारे और उसके परिवार की नींद स्वर्गदूतों के गायन स्वर से खुलती है और वे देखते हैं कि वह छोटा बालक यीशु मसीह के रूप में बदल गया है। यीशु बाहर जाते हैं और फर वृक्ष की एक डाल तोड़कर उस परिवार को धन्यवाद कहते हुए देते हैं। तभी से प्रत्येक ईसाई परिवार अपने घर में फर की पत्तियों वाला क्रिसमस ट्री सजाता है।

क्या आपने सुनी हैं क्रिसमस से जुडी ये कहानियाँ: क्यों होता है 25 दिसंबर

आपके घर भी जरूर आया होगा सांता क्लॉज़

प्रतिक्रिया दीजिए