यूपी में बदमाश बेखौफ : पूर्व DGP सुलखान सिंह की बहन के साथ चेन स्नेचिंग
विधानसभा ,लोकसभा चुनाव अकेले लड़ने के फैसले के लिए बीजेपी जिम्मेदार : शिवसेना
बढ़ सकती हैं चीफ जस्टिस की मुश्किलें, माकपा कर रही महाभियोग लाने की तैयारी
करणी सेना की चित्तौड़गढ़ इकाई के 3 नेता गिरफ्तार
लाहौर उच्च न्यायालय ने सईद के खिलाफ कार्रवाई से पाकिस्तान सरकार को रोका
लालू को सजा मिलते ही कोर्ट परिसर में मौजूद रघुवंश प्रसाद ने कहा….
‘आप’ को न्यायपालिका पर पूरा यकीन: सिसोदिया
कुलभूषण मामला: ICJ में अपना पक्ष रखेगा भारत
बिग ब्रेकिंग: राजद समर्थकों के लिए बुरी खबर, लालू यादव को मिली इतने साल की सजा…
चारा घोटाला से जुड़े मामले में लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5-5 साल की सजा
चारा घोटाला: तीसरे मामले में लालू यादव को पांच साल कैद, 5 लाख जुर्माना
चारा घोटाले के तीसरे केस में भी लालू यादव को 5 साल की जेल, 5 लाख लगा जुर्माना
फडणवीस का विदेशी निवेशकों को न्योता, महाराष्ट्र को बनाना चाहते 1,000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था
राजीव गांधी हत्याकांड: पेरारिवलन की याचिका पर सीबीआई को SC का नोटिस
कालवी ने दी धमकी, कहा- नहीं होने देंगे पद्मावत रिलीज
दुनिया के समक्ष सबसे बड़ी चिंता है जलवायु परिवर्तन और आतंकवाद: मोदी
मुरली विजय केवल 8 रन बनाकर आउट
प्रधानमंत्री मोदी ने दिया, आओ नया विश्व बनाएं’ का नारा
सुषमा स्‍वराज ने कहा- रामायण और बौद्ध धर्म, भारत और आसियान को जोड़ते हैं
पेट्रोल की चोरी के लिए शातिर चोरों ने बनाई 150 फुट लंबी सुरंग, धमाके के बाद हुआ खुलासा
आखिर क्या है राज़ क्रिसमस ट्री का : क्या आपने भी सुनी है सर्दी में ठिठुरते बालक की कहानी ?

1. क्या होता है क्रिसमस ट्री?

क्रिसमस ट्री अर्थात क्रिसमस वृक्ष का क्रिसमस के मौके पर विशेष महत्व है। क्रिसमस ट्री ,जिस पर क्रिसमस के दिन बहुत सजावट की जाती है, एक सदाबहार वृक्ष है जो डगलस, बालसम या फर का पौधा होता है | फर के अलावा लोग चैरी के वृक्ष को भी क्रिसमस ट्री के रूप में सजाते थे। अगर लोग क्रिसमस ट्री को लेने में सक्षम नहीं होते थे तब वे लकड़ी के पिरामिड को एप्पल और अन्य सजावटों से इस प्रकार सजाते थे कि यह क्रिसमस ट्री की तरह लगे क्योंकि क्रिसमस ट्री का आकार भी पिरामिड के जैसा ही होता है।

2. क्यों सजाया जाता है क्रिसमस ट्री?

यूं तो इसके कारण के कोई दृढ प्रमाण उपलब्ध नहीं हैं फिर भी माना ये जाता है कि प्राचीनकाल में

रोमनवासी फर के वृक्ष को अपने मंदिर सजाने के लिए उपयोग करते थे। यूरोप के लोग भी सदाबहार

पेड़ की मालाओं, पुष्पहारों को जीवन की निरंतरता का प्रतीक मानते थे इसलिए ये लोग सदाबहार पौधों - पत्तियों से घरों को सजाते थे। उनका विश्वास था कि इन पौधों को घरों में सजाने से बुरी आत्माएं दूर

रहती हैं। यूं तो सदियों से सदाबहार फर को क्रिसमस ट्री के रूप में सजाने की परंपरा रही है। लेकिन

‍यीशू को मानने वाले लोग इसे ईश्वर के साथ अनंत जीवन के प्रतीक के रूप में सजाते हैं।

3. कब शुरू हुई ये प्रथा?

क्रिसमस ट्री सजाने की परंपरा की शुरुआत कई सदी पूर्व उत्तरी यूरोप से हुई , मगर माना जाता है कि इसे सजाने की प्रथा की शुरुआत प्राचीन काल में मिस्रवासियों, चीनियों या हिबू्र लोगों ने की थी। । पहले के समय में क्रिसमस ट्री गमले में रखने की जगह छतों से लटकाए जाते थे।

4. क्रिसमस ट्री की कहानी :

क्रिसमस ट्री को लेकर एक कहानी बहुत मशहूर है- हुआ यूं कि एक बार क्रिसमस पूर्व की रात में जब सर्दी कड़ाके की थी और बर्फ गिर रही थी ऐसे में एक बहुत छोटा सा बालक घूमते हुए अपने घर से दूर निकल जाता है। उस खोये हुए बच्चे को जब ठंड लगती है तब ठंड से बचने के लिए वह उपाय तलाश करता है तभी उसको एक झोपड़ी दिखाई देती है। उस झोपड़ी में एक लकड़हारा रहता था जो तब अपने परिवार के साथ अलाव ताप रहा था। वह छोटा बच्चा दरवाज़ा खटखटाता है । लकड़हारा दरवाज़ा खोलता है और बालक को ठंड में ठिठुरता देख अंदर बुला लेता है। उसकी पत्नी उस बालक को दुलार कर खाना खिलाती है और अपने सबसे छोटे बेटे के साथ उसे सुला देती है। क्रिसमस की सुबह लकड़हारे और उसके परिवार की नींद स्वर्गदूतों के गायन स्वर से खुलती है और वे देखते हैं कि वह छोटा बालक यीशु मसीह के रूप में बदल गया है। यीशु बाहर जाते हैं और फर वृक्ष की एक डाल तोड़कर उस परिवार को धन्यवाद कहते हुए देते हैं। तभी से प्रत्येक ईसाई परिवार अपने घर में फर की पत्तियों वाला क्रिसमस ट्री सजाता है।

क्या आपने सुनी हैं क्रिसमस से जुडी ये कहानियाँ: क्यों होता है 25 दिसंबर

आपके घर भी जरूर आया होगा सांता क्लॉज़

प्रतिक्रिया दीजिए