फटाफट TOP 10: आज की 10 बड़ी खबरें
जब एक फोटो ने कारण मायावती ने काट दिया टिकट
क्या हुआ जब मज़दूर को दुत्कार कर भगाया इंस्पेक्टर ने : रियल लाइफ का सिंघम
नहीं है छत, नहीं है दीवारें, बस खून-पसीने की मेहनत और खड़ा किया देश का सबसे अनूठा स्कूल
जब IAS अधिकारी का पद छोड़ अध्यापक बन गया 24 साल का युवक
इस गाँव में होती है अफसरों की फसल :
नए साल की धमाकेदार शुरुआत, हुआ पहला घोटाला :जानिये कौन है ये नया लुटेरा
बदलने लगी है भारतीय रेलवे की तस्वीर : ऐसे होंगे नए कोच
इसलिए सेक्स से डरती हैं लडकियां
क्या किसी देश की राष्ट्रपति इतनी हॉट हो सकती है?
पठानकोट हमले का खुलासा किसने लगाई सुरक्षा में सेंध ?
और फिर हम कहते हैं कि सरकार काम नहीं कर रही : क्या इस तरह आएंगे अच्छे दिन?
जब ऑड ईवन फार्मूले पर निकला एक दिल्ली वाले का दर्द : जानिये क्या क्या कहा
पैन कार्ड नहीं है तो हो जाएँ आज से सावधान
हैवानियत का चरम : क्या हुआ ISIS के चंगुल से भागी इन दो लड़कियों के साथ
नीच ISIS का एक और कुकृत्य हुआ उजागर: दासियों से बलात्कार के भी बनाये नियम
न्यू ईयर पार्टी में जाने से पहले जरूर रखें इन बातों का ख्याल
साल 2015: क्या क्या हुआ दुनिया भर में: Special Report News75
इस फिल्म में सनी लीओन ने दिखाया अपना फुल पोर्न रूप , दिए जमकर न्यूड सीन
साल भर में जनता को क्या दिया मोदी ने - डिजिटल लॉकर से स्मार्ट सिटी तक, News75 Special, साल 2015
नए साल की धमाकेदार शुरुआत, हुआ पहला घोटाला :जानिये कौन है ये नया लुटेरा

शुक्रवार को सी बी आई ने 45 हजार करोड़ रुपये के पोंजी घोटाले में पर्ल समूह कम्‍पनियों के अध्‍यक्ष निर्मल सिंह भांगू को गिरफ्तार कर लिया है । पर्ल्स ग्रुप के संस्थापक निर्मल सिंह भंगू को धोखाधड़ी के आरोप में सीबीआई द्वारा गिरफ्तार किया है , साथ ही पीएसीएल के एमडी सुखदेव सिंह, गुरमीत सिंह, सुब्रत भट्टाचार्य को भी पोंजी स्कीम केस के सिलसिले में गिरफ्तार किया गया है । रिपोर्ट्स के मुताबिक, पीएसीएल और इसके प्रमोटर रहे निर्मल सिंह भंगू के खिलाफ ईडी और सीबीआई लगातार शिकंजा कस रहे थे। गौरतलब है कि पिछले महीने प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने मनी लांड्रिंग रोकथाम कानून के तहत देश भर में कई शहरों में पीएसीएल के दफ्तरों पर छापे मारे थे । जिनमें दिल्ली, मुंबई, मोहाली, चंडीगढ़ और जयपुर आदि शामिल थे

सूत्रों के अनुसार आरोप ये है कि पीएसीएल ने रीयल एस्टेट प्रोजेक्ट के नाम पर बिना पूंजी बाजार नियामक की मंजूरी लिए सामूहिक निवेश योजनाएं यानी पोंजी स्कीम चलाई थीं। जिसके जरिये निवेशकों से करीब 45 हजार करोड़ रुपये जुटाए गए ।

सन् 2015 में सीबीआई की एफआईआर के आधार पर प्रवर्तन निदेशालय ने पीएसीएल के खिलाफ आपराधिक केस दर्ज किया था । इसके बाद इनके खिलाफ जांच शुरू कर दी गयी ।

क्या क्या घोटाला किया ?

सीबीआई द्वारा की गयी जांच में खुलासा हुआ कि 45 हजार करोड़ रुपये निवेशकों से जमा किये गए। कुल मिला कर पांच करोड़ निवेशकों की रकम जमा की गई। रकम का एक बड़ा हिस्सा विदेश पहुंचा दिया गया। निवेशकों की रकम को निजी हित के लिए प्रयोग किया गया। इसी रकम से ऑस्ट्रेलिया में कारोबार शुरू किया।

किस किस को लूटा ?

45 हज़ार करोड़ की रकम पूरे देश के निवेशकों से लूटी गई जिनमें महाराष्ट्र के 61 लाख निवेशक, राजस्थान के 45 लाख निवेशक, तमिलनाडु के 51 लाख निवेशक, यूपी के 1.30 करोड़ निवेशक, हरियाणा के 25 लाख निवेशक शामिल थे

कैसे कैसे लूटा गया ?

खुलासे में पता चला है कि ये नेटवर्क बहुत बड़े पैमाने पर बड़ी ही विविधताओं से चलाया गया

गुजरात : सूरत गोल्ड घोटाला: कुल 120 करोड़

भीलवाड़ा के अभिनव गोल्ड ने सूरत में 20,000 लोगों को दो साल के लिए 6,000 रु. जमा करने की एवज में 1.72 लाख रु. लौटाने का झांसा दिया और रकम गायब की

स्पीक एशिया ऑनलाइन घोटाला : कुल 2300 करोड़

मुंबई के रामनिवास पाल और राम सुमिरन पाल भाइयों ने एक ऑनलाइन सदस्यता योजना शुरू की जिसमें लोगों को रिवार्ड पॉइंट सिस्टम के जरिए कमाई का लालच दिया गया और ठगा गया

बंगाल: श्रद्धा घोटाला : कुल 2640 करोड़

चेयरमैन सुदीप्त सेन और उसके साथियों ने चिट फंड घोटाले की तर्ज पर लोगों से प्लॉट, फ्लैट या आर्थिक फायदे के लिए एडवांस रुपया जमा करवाया

स्टॉक गुरु इंडिया घोटाला : कुल 500 करोड़

उल्हास प्रभाकर और उसकी पत्नी रक्षा खेरे ने दो लाख इन्वेस्टर्स को हर महीने 20 प्रतिशत कमाई का झांसा देकर फंसाया

टीवीआई एक्सप्रेस घोटाला : कुल 1500 करोड़

तरुण त्रिखा ने वेब पर एक कंपनी बनाई, जो 15000 रुपये में सदस्यता के बदले जबरदस्त नकद कमाई का लालच देती थी। जिसके जरिये कई लोगों को लूटा गया इस तरह छोटे छोटे और घोटाले करके बड़ी वारदात अंजाम दी गई

प्रतिक्रिया दीजिए