Lok Sabha Elections 2024 : मार्च के पहले हफ्ते में आ सकती है BJP की पहली लिस्‍ट, 100 उम्‍मीदवारों का हो सकता है ऐलान
नई काशी नए भारत की प्रेरणा बनकर उभरी: PM मोदी
लोकसभा चुनावों पर नजर, तेलंगाना में जाति सर्वेक्षण के बाद योजनाओं की रफ्तार तेज करने की कोशिश में कांग्रेस सरकार
पटना में मचा बवाल! स्थायी नौकरी की मांग कर रहे ग्राम रक्षा दल के लोगों पर पुलिस ने किया लाठीचार्ज
UP के ढाबे में अचानक लग गई भयंकर आग, लोगों ने ऐसे बचाई जान
Farmers Protest: अब हरियाणा के इस क्षेत्र से मंगलवार को दिल्ली कूच करेंगे किसान, जानें क्या है मांगें
IND vs ENG : इंग्लैंड को लगा बड़ा झटका, निजी कारणों से स्वदेश लौटा यह खिलाड़ी
अजमेर राजस्थान के पुष्कर में लगेगा VVIP का जमावड़ा, एमपी सीएम डॉ.मोहन यादव के बेटे की होगी शादी
IND vs ENG Live : पहले दिन लंच तक इंग्लैंड 112/5, डेब्यू पर आकाश को तीन विकेट, अश्विन-जडेजा को सफलता
UP: मिर्जापुर के सरकारी स्कूल में बने मिड-डे मील में मिली छिपकली, 13 बच्चे बीमार
महाराष्ट्र में फंस रहा सीट बंटवारे का पेंच, राहुल गांधी ने शरद पवार और उद्धव ठाकरे को किया फोन
Sandeshkhali Violence | ईडी ने टीएमसी के संदेशखाली नेता शाहजहां शेख के खिलाफ नया मामला दर्ज किया, तलाशी ली
शेर का नाम अकबर, शेरनी का सीता क्यों? उच्च न्यायालय ने बंगाल सरकार से लायंस का नाम बदलने का आदेश
महादेव के आशीष के साथ 10 वर्षों में काशी में चहुंओर विकास का डमरू बजा है, BHU छात्रों से बोले PM Modi
अशोक गहलोत के भविष्य पर भाजपा नेता की भविष्यवाणी, अब कांग्रेस में उनकी कोई महत्वपूर्ण भूमिका नहीं रह जाएगी
दिल्ली में आप-कांग्रेस गठबंधन पक्का, इतनी सीटों पर लड़ेगी कांग्रेस
टर्म इंश्योरेंस लेते समय मेडिकल टेस्ट अनिवार्य क्यूँ होते हैं?
वाराणसी: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बोले, काशी की ज्ञान परम्परा का हिस्सा बनना सौभाग्य, भारत का युवा ही देश को नई ऊंचाइयों पर ले जाएगा
PM मोदी ने संभल में रखी कल्कि धाम मंदिर की आधारशिला, सीएम योगी भी रहे मौजूद
Arvind Kejriwal can be Arrested | 2-3 दिन में गिरफ्तार हो सकते हैं अरविंद केजरीवाल, AAP नेता सौरभ भारद्वाज ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की
इस गाँव में होती है अफसरों की फसल :

जी हाँ, आपने अब तक जितने कैडेट सुने होंगे उनमें एक और जोड़ लीजिये, ये है माधोपट्टी कैडेट : ये कोई राज्य नहीं बल्कि एक उत्तर प्रदेश के जौनपुर जिले का एक गाँव है जिसमें सिर्फ अफसर जन्म लेते हैं, और इस गाँव का नाम है माधोपट्टी अर्थात माधवपट्टी ।

माधोपट्टी एक ऐसा गांव है जहां से देश को कई आईएएस और ऑफिसर मिलते हैं। कहने को इस गांव में केवल 75 घर हैं, लेकिन सिर्फ वर्तमान की बात की जाए तो यहां के 47 आईएएसअधिकारी विभिन्‍न विभागों में सेवा दे रहे हैं, यदि PCS और आईपीएस की बात की जाए तो ये लिस्ट न जाने कहाँ पहुंचे । इस गाँव का योगदान सिर्फ यहीं खत्म नहीं होता , माधोपट्टी की धरती पर जन्मे सपूत इसरो, भाभा, काई मनीला और विश्‍व बैंक तक में अधिकारी बनते हैं। यह गाँव सिरकोनी विकास खण्ड का एक छोटा सा हिस्सा है ; मगर देश के प्रशासनिक खंड में यह गाँव एक बड़ा हिस्सा कवर करता है। इस गांव के अजनमेय सिंह विश्‍व बैंक मनीला में, डॉक्‍टर निरू सिंह लालेन्द्र प्रताप सिंह वैज्ञानिक के रूप भाभा इंस्टीट्यूट तो ज्ञानू मिश्रा इसरो में सेवाएं दे रहे हैं। यहीं के रहने वाले देवनाथ सिंह गुजरात में सूचना निदेशक के पद पर तैनात हैं.

कहाँ से शुरू हुई ये होड़ :

कहते हैं 1952 में इस गाँव के इन्दू प्रकाश सिंह का आईएएस परीक्षा में दूसरी रैंक के साथ सलेक्शन क्या हुआ मानो यहां के युवाओं में अधिकारी बनने की होड़ लग गई । क्या लड़के क्या लडकियां , ये गाँव बस अधिकारी निकालता ही चला गया ।

आईएएस बनने के बाद इन्दू प्रकाश सिंह फ्रांस सहित कई देशों में भारत के राजदूत रहे। सिंह के बाद इस गांव के चार सगे भाइयों ने आईएएस बनकर एक इतिहास रच दिया जो भारत में अब तक अविजित कीर्तिमान है। इन चारों सगे भाइयों में सबसे बड़े भाई विनय कुमार का चयन 1955 में आईएएस की परीक्षा में 13वीं रैंक के साथ हुआ । विनय सिंह बिहार के मुख्यसचिव पद तक पहुंचे ।

सन् 1964 में उनके दो सगे भाई क्षत्रपाल सिंह और अजय कुमार सिंह एक साथ आईएएस अधिकारी बने। क्षत्रपाल सिंह तमिलनाड् के प्रमुख सचिव रहे। वहीं चौथे भाई शशिकांत सिंह 1968 आईएएस अधिकारी बने। सिर्फ बेटे ही नहीं इस गाँव की बेटियां गरिमा सिंह आईपीएस और सोनल सिंह का चयन IRS में हुआ। इसके अलावा इस गांव की आशा सिंह 1980, उषा सिंह 1982, कुवंर चद्रमौल सिंह 1983 और उनकी पत्नी इन्दू सिंह 1983, अमिताभ बेटे इन्दू प्रकाश सिंह 1994 आईपीएएस उनकी पत्नी सरिता सिंह 1994 में चयनित होकर इस श्रृंखला को आगे बढ़ाया ।

इसी गाँव के शृीप्रकाश सिंह IAS,वर्तमान में उ.प्र.के नगर विकास सचिव हैं । 2002 में शशिकांत के बेटे यशस्वी न केवल आईएएस बने बल्‍कि इस प्रतिष्ठित परीक्षा में 31वीं रैंक हासिल की।

उच्च सेवाओं के अलावा :

अगर आईएएस आईपीएस से थोड़ा पीछे आएं और बात करें PCS सेवा की तो पीसीएस अधिकारियों की यहां एक लम्बी फौज है। इस गांव के राममूर्ति सिंह ,विद्याप्रकाश सिंह , प्रेमचंद्र सिंह , महेन्द्र प्रताप सिंह ,जय सिंह ,प्रवीण सिंह व उनकी पत्नी पारूल सिंह ,रीतू सिंह पचस अधिकारी हैं इनके अलावा अशोक कुमार प्रजापति, प्रकाश सिंह ,राजीव सिंह ,संजीव सिंह ,आनंद सिंह ,विशाल सिंह व उनके भाई विकास सिंह ,वेदप्रकाश सिंह ,नीरज सिंह भी पीसीएस अधिकारी बने चुके हैं। अभी हाल ही 2013 के आए परीक्षा परिणाम इस गांव की बहू शिवानी सिंह ने पीसीएस परीक्षा पास करके इस परम्परा को जीवित रखा है ।

प्रतिक्रिया दीजिए