संपूर्ण विपक्ष के बहिगर्मन के बीच आम बजट को संसद की मंजूरी
पाकिस्तान ने पुंछ में नियंत्रण रेखा पर की गोलीबारी
भाजपा के लोग चो'री भी करें तो कोई कुछ नहीं कहता है,पर हम बोलें भी तो सदस्यता छिन जाती है : हेमंत सोरेन - Live Bihar
संभल : सिपाहियों की हत्या कर फरार हुए कैदी के भाई का पेंड़ से लटका मिला शव
मोबाइल ऐप के जरिए दे सकेंगे लावारिस, संदिग्ध एवं नो पार्किंग में खडे़ वाहन के बारे में सूचना
पूर्व विदेश मंत्री बोरिस जॉनसन होंगे ब्रिटेन के नये प्रधानमंत्री,लेंगे थेरेसा मे की जगह
मोटर यान विधेयक लोकसभा में पारित
बीजेपी का मिशन महाराष्ट्र, फड़णवीस की जनादेश यात्रा को हरी झंडी दिखाएंगे शाह
कांग्रेस ने मोदी से कहा, जागो और ट्रंप को जवाब दो
संसद में मिलने बेहद खास दोस्त आया..पीएम मोदी ने नन्हें दोस्त संग शेयर की तस्वीर
कासगंज में पत्रकारिता की आड़ में पेट्रोलियम पदार्थ बेचते ब्यूरो चीफ समेत तीन गिरफ्तार
राकेश शर्मा ने अंतरिक्ष से इंदिरा गांधी को कहा था “सारे जहाँ से अच्छा हिन्दुस्तान हमारा”
बेटे के करियर के लिए पिता ने बेच दी पुश्तैनी जमीन, आज टीम इंडिया के प्रमुख खिलाड़ी हैं चहल
बेंगलुरू में कांग्रेस कार्यकर्ताओं का विरोथ प्रदर्शन, सिद्धारमैया ने विपक्ष पर निशाना साधा
ट्रंप के बयान पर राहुल ने क्यों दिलाई शिमला समझौते की याद, क्या है ये समझौता?
कर्नाटक में सियासी घमासान जारी, कुमारस्वामी बोले- जरूरत पड़ी तो छोड़ दूंगा पद
मोदी ने बच्चे के साथ फोटो पोस्ट की, कहा- संसद में मुझसे मिलने बेहद खास दोस्त आया
सेना के अगले उप प्रमुख होंगे लेफ्टिनेंट जनरल मनोज मुकुंद..विभिन्न कमानों में भी हुई प्रमुखों की नियुक्ति
पीएम मोदी से मिलने आया एक खास मेहमान, फोटो शेयर कर लिखा- मुझसे मिलने बेहद खास दोस्त आया
कांग्रेस के सवाल पर बोले नीतीश कुमार- बिहार के 400 रुपये तेलंगाना के 1000 से ज़्यादा - Live Bihar
इस गाँव में होती है अफसरों की फसल :

जी हाँ, आपने अब तक जितने कैडेट सुने होंगे उनमें एक और जोड़ लीजिये, ये है माधोपट्टी कैडेट : ये कोई राज्य नहीं बल्कि एक उत्तर प्रदेश के जौनपुर जिले का एक गाँव है जिसमें सिर्फ अफसर जन्म लेते हैं, और इस गाँव का नाम है माधोपट्टी अर्थात माधवपट्टी ।

माधोपट्टी एक ऐसा गांव है जहां से देश को कई आईएएस और ऑफिसर मिलते हैं। कहने को इस गांव में केवल 75 घर हैं, लेकिन सिर्फ वर्तमान की बात की जाए तो यहां के 47 आईएएसअधिकारी विभिन्‍न विभागों में सेवा दे रहे हैं, यदि PCS और आईपीएस की बात की जाए तो ये लिस्ट न जाने कहाँ पहुंचे । इस गाँव का योगदान सिर्फ यहीं खत्म नहीं होता , माधोपट्टी की धरती पर जन्मे सपूत इसरो, भाभा, काई मनीला और विश्‍व बैंक तक में अधिकारी बनते हैं। यह गाँव सिरकोनी विकास खण्ड का एक छोटा सा हिस्सा है ; मगर देश के प्रशासनिक खंड में यह गाँव एक बड़ा हिस्सा कवर करता है। इस गांव के अजनमेय सिंह विश्‍व बैंक मनीला में, डॉक्‍टर निरू सिंह लालेन्द्र प्रताप सिंह वैज्ञानिक के रूप भाभा इंस्टीट्यूट तो ज्ञानू मिश्रा इसरो में सेवाएं दे रहे हैं। यहीं के रहने वाले देवनाथ सिंह गुजरात में सूचना निदेशक के पद पर तैनात हैं.

कहाँ से शुरू हुई ये होड़ :

कहते हैं 1952 में इस गाँव के इन्दू प्रकाश सिंह का आईएएस परीक्षा में दूसरी रैंक के साथ सलेक्शन क्या हुआ मानो यहां के युवाओं में अधिकारी बनने की होड़ लग गई । क्या लड़के क्या लडकियां , ये गाँव बस अधिकारी निकालता ही चला गया ।

आईएएस बनने के बाद इन्दू प्रकाश सिंह फ्रांस सहित कई देशों में भारत के राजदूत रहे। सिंह के बाद इस गांव के चार सगे भाइयों ने आईएएस बनकर एक इतिहास रच दिया जो भारत में अब तक अविजित कीर्तिमान है। इन चारों सगे भाइयों में सबसे बड़े भाई विनय कुमार का चयन 1955 में आईएएस की परीक्षा में 13वीं रैंक के साथ हुआ । विनय सिंह बिहार के मुख्यसचिव पद तक पहुंचे ।

सन् 1964 में उनके दो सगे भाई क्षत्रपाल सिंह और अजय कुमार सिंह एक साथ आईएएस अधिकारी बने। क्षत्रपाल सिंह तमिलनाड् के प्रमुख सचिव रहे। वहीं चौथे भाई शशिकांत सिंह 1968 आईएएस अधिकारी बने। सिर्फ बेटे ही नहीं इस गाँव की बेटियां गरिमा सिंह आईपीएस और सोनल सिंह का चयन IRS में हुआ। इसके अलावा इस गांव की आशा सिंह 1980, उषा सिंह 1982, कुवंर चद्रमौल सिंह 1983 और उनकी पत्नी इन्दू सिंह 1983, अमिताभ बेटे इन्दू प्रकाश सिंह 1994 आईपीएएस उनकी पत्नी सरिता सिंह 1994 में चयनित होकर इस श्रृंखला को आगे बढ़ाया ।

इसी गाँव के शृीप्रकाश सिंह IAS,वर्तमान में उ.प्र.के नगर विकास सचिव हैं । 2002 में शशिकांत के बेटे यशस्वी न केवल आईएएस बने बल्‍कि इस प्रतिष्ठित परीक्षा में 31वीं रैंक हासिल की।

उच्च सेवाओं के अलावा :

अगर आईएएस आईपीएस से थोड़ा पीछे आएं और बात करें PCS सेवा की तो पीसीएस अधिकारियों की यहां एक लम्बी फौज है। इस गांव के राममूर्ति सिंह ,विद्याप्रकाश सिंह , प्रेमचंद्र सिंह , महेन्द्र प्रताप सिंह ,जय सिंह ,प्रवीण सिंह व उनकी पत्नी पारूल सिंह ,रीतू सिंह पचस अधिकारी हैं इनके अलावा अशोक कुमार प्रजापति, प्रकाश सिंह ,राजीव सिंह ,संजीव सिंह ,आनंद सिंह ,विशाल सिंह व उनके भाई विकास सिंह ,वेदप्रकाश सिंह ,नीरज सिंह भी पीसीएस अधिकारी बने चुके हैं। अभी हाल ही 2013 के आए परीक्षा परिणाम इस गांव की बहू शिवानी सिंह ने पीसीएस परीक्षा पास करके इस परम्परा को जीवित रखा है ।

प्रतिक्रिया दीजिए