फटाफट TOP 10: आज की 10 बड़ी खबरें
जब एक फोटो ने कारण मायावती ने काट दिया टिकट
क्या हुआ जब मज़दूर को दुत्कार कर भगाया इंस्पेक्टर ने : रियल लाइफ का सिंघम
नहीं है छत, नहीं है दीवारें, बस खून-पसीने की मेहनत और खड़ा किया देश का सबसे अनूठा स्कूल
जब IAS अधिकारी का पद छोड़ अध्यापक बन गया 24 साल का युवक
इस गाँव में होती है अफसरों की फसल :
नए साल की धमाकेदार शुरुआत, हुआ पहला घोटाला :जानिये कौन है ये नया लुटेरा
बदलने लगी है भारतीय रेलवे की तस्वीर : ऐसे होंगे नए कोच
इसलिए सेक्स से डरती हैं लडकियां
क्या किसी देश की राष्ट्रपति इतनी हॉट हो सकती है?
पठानकोट हमले का खुलासा किसने लगाई सुरक्षा में सेंध ?
और फिर हम कहते हैं कि सरकार काम नहीं कर रही : क्या इस तरह आएंगे अच्छे दिन?
जब ऑड ईवन फार्मूले पर निकला एक दिल्ली वाले का दर्द : जानिये क्या क्या कहा
पैन कार्ड नहीं है तो हो जाएँ आज से सावधान
हैवानियत का चरम : क्या हुआ ISIS के चंगुल से भागी इन दो लड़कियों के साथ
नीच ISIS का एक और कुकृत्य हुआ उजागर: दासियों से बलात्कार के भी बनाये नियम
न्यू ईयर पार्टी में जाने से पहले जरूर रखें इन बातों का ख्याल
साल 2015: क्या क्या हुआ दुनिया भर में: Special Report News75
इस फिल्म में सनी लीओन ने दिखाया अपना फुल पोर्न रूप , दिए जमकर न्यूड सीन
साल भर में जनता को क्या दिया मोदी ने - डिजिटल लॉकर से स्मार्ट सिटी तक, News75 Special, साल 2015
पठानकोट हमले का खुलासा किसने लगाई सुरक्षा में सेंध ?

पठानकोट हमले को लेकर बड़ी बड़ी बातें सामने आ रही हैं, कोई इसके लिए कोटिनीति की विफलता बता रहा है तो कोई इसके लिए इंटेलिजेंस की चूक को दोषी मान रहा है, मगर इस पूरे घटनाक्रम पर हमारी रिपोर्ट कुछ और कहती है :

हमले से काफी पहले एयरबेस में घुस चुके थे आतंकी:
दरअसल ख़ुफ़िया विभाग की चेतावनी पर जब एयरबेस में सेना द्वारा सुरक्षा व्यूह बनाया जा रहा था उससे पूर्व ही दो आत्मघाती आतंकी कैम्पस में दाखिल हो चुके थे ; और इस दौरान पंजाब पुलिस के पुलिस अधीक्षक के इस दावे कि उसका हमलावरों ने अपहरण कर लिया था, की पुष्टि में कई घंटे बर्बाद कर दिए गए। रक्षा एजेंसियों ने यह बात कही है। सूत्रों ने बताया कि चेतावनी जारी होते ही पठानकोट वायु सैनिक ठिकाने सहित पंजाब के तमाम महत्वपूर्ण प्रतिष्ठानों की सुरक्षा शीषर्स्थ स्तर पर बढ़ा दी गई ताकि आतंकवादी हमला नहीं करने पाएं। सूत्रों के अनुसार, ‘हमें संदेह है कि आतंकवादी 1 जनवरी की सुबह ही वायु सैनिक ठिकाने में घुस चुके थे, जबकि चेतावनी उसके कुछ घंटे बाद शाम में जारी की गई।’ उनके अनुसार पंजाब पुलिस के अधीक्षक सलविन्दर सिंह से मिली जानकारी की पुष्टि में कुछ महत्वपूर्ण घंटे ज़ाया हो गए, जिसने दावा किया था कि उसे दो अन्य के साथ आतंकवादियों ने अगवा कर लिया था।

सूत्रों ने बताया कि सलविन्दर ने शुरू में जिन पुलिस अधिकारियों को आतंकवादियों के बारे में बताया उन्होंने इसे गंभीरता से नहीं लिया, जिससे समय बर्बाद हो गया। सुरक्षा एजेंसियों को संदेह है कि कुल छह आतंकवादी थे, जो दो हिस्सों में बंटे हुए थे। इनमें एक समूह में चार और दूसरे में दो आतंकवादी थे।

अपनों ने दिया धोखा :
हनी ट्रैप में फंसे वायुसेना के कर्मचारी रंजीत सिंह द्वारा ISI को दी गयी जानकारी ने सबसे ज्यादा नुकसान करवाया ; दरअसल इससे पहले कोई भी हमला इतनी सटीक प्लानिंग के साथ नहीं होता था ; मगर रंजीत सिंह ने शायद आतंकियों को काफी कुछ उपलब्ध करा दिया था जिसके कारण हमें अपने जांबाज़खोने पड़े । बेस में घुसने वाले आतंकियों को भी जरूर कोई और मदद मिली होगी जिससे वे इतनी आसानी से एयरबेस में दाखिल हो पाये । हालंकि ये हमला नाकाम कर दिया गया मगर सवाल यही है कि सरकार अपना काम कर रही है सेना अपना काम कर रही ऐसे में इन गद्दारों से किस तरह निपटा जाए?

प्रतिक्रिया दीजिए