फटाफट TOP 10: आज की 10 बड़ी खबरें
जब एक फोटो ने कारण मायावती ने काट दिया टिकट
क्या हुआ जब मज़दूर को दुत्कार कर भगाया इंस्पेक्टर ने : रियल लाइफ का सिंघम
नहीं है छत, नहीं है दीवारें, बस खून-पसीने की मेहनत और खड़ा किया देश का सबसे अनूठा स्कूल
जब IAS अधिकारी का पद छोड़ अध्यापक बन गया 24 साल का युवक
इस गाँव में होती है अफसरों की फसल :
नए साल की धमाकेदार शुरुआत, हुआ पहला घोटाला :जानिये कौन है ये नया लुटेरा
बदलने लगी है भारतीय रेलवे की तस्वीर : ऐसे होंगे नए कोच
इसलिए सेक्स से डरती हैं लडकियां
क्या किसी देश की राष्ट्रपति इतनी हॉट हो सकती है?
पठानकोट हमले का खुलासा किसने लगाई सुरक्षा में सेंध ?
और फिर हम कहते हैं कि सरकार काम नहीं कर रही : क्या इस तरह आएंगे अच्छे दिन?
जब ऑड ईवन फार्मूले पर निकला एक दिल्ली वाले का दर्द : जानिये क्या क्या कहा
पैन कार्ड नहीं है तो हो जाएँ आज से सावधान
हैवानियत का चरम : क्या हुआ ISIS के चंगुल से भागी इन दो लड़कियों के साथ
नीच ISIS का एक और कुकृत्य हुआ उजागर: दासियों से बलात्कार के भी बनाये नियम
न्यू ईयर पार्टी में जाने से पहले जरूर रखें इन बातों का ख्याल
साल 2015: क्या क्या हुआ दुनिया भर में: Special Report News75
इस फिल्म में सनी लीओन ने दिखाया अपना फुल पोर्न रूप , दिए जमकर न्यूड सीन
साल भर में जनता को क्या दिया मोदी ने - डिजिटल लॉकर से स्मार्ट सिटी तक, News75 Special, साल 2015
नंगे पैर , पेट में पथरी और जीत लायी गोल्ड मेडल : शेर बिटिया की कहानी

कभी कभी गरीबी इंसान से वो सब करवा देती है जिसपर न तो वाह कहते बनता है और न चुप रहते । ऐसे हालत पर कलम भी जवाब दे जाती है क्या लिखा जाए कितना लिखा जाए । ये कहानी नही हकीकत है बक्शो देवी की । हिमाचल प्रदेश के ऊना जिले के इंदिरा स्टेडियम में हुई ५००० मीटर की दौड़ गवाह बनी एक बेबसी की जीत की ।

ऊना जिले के स्कूल में पढ़ने वाली इस अति गरीब छात्रा ने सभी को हैरान कर दिया । जैसे ही दौड़ शुरू हुई सभी ने एक ऐसा नज़ारा देखा जिसे बढ़ते भारत का सपना देखने वाला कोई स्वीकार नही कर पाता, शून्य से भी नीचे तापमान में एक लड़की नंगे पाँव दौड़ में आके खड़ी हो गई है । न पैर में जूते थे और न धावकों जैसे स्पोर्ट्स आउटफिट्स,उसके विरोधी जूतों और किट के साथ ट्रेक पर थे । जैसे ही दौड़ शुरू हुई बक्शो देवी सबको पीछे छोड़ती हुई बढ़ती जा रही थी , गला देने वाली ठण्ड में उसके नंगे पैर जैसे सख्त धरती से अपना हक छीनने को संघर्ष कर रहे थे, ये दृश्य तब आँखों में आंसू ला देने वाला हो गया जब यह बालिका धावक पेट में पथरी के दर्द को बार बार संभालती और दौड़ने को जोर लगाती । ठण्ड , गरीबी,बिमारी , दर्द और हिम्मत की लड़ाई में आखिरकार बक्शो जीत गयी । इस प्रतियोगिता में बक्शो ने स्वर्ण पदक जीता और पुरूस्कार राशि के रूप में ६००० रूपये भी । बक्शो देवी के पिता नहीं हैं , माँ किसी तरह घर का गुज़ारा किया करती हैं , ऐसे में बक्शो के उच्च शिक्षा के सपने संघर्ष करने को मज़बूर हैं

पुरूस्कार में मिली 6,000 रुपए की राशि को बक्शो देवी अपनी मां को देना चाहती हैं ताकि घर के गुज़ारे में कुछ सहयोग किया जा सके , घोर गरीबी के चलते बक्शो देवी के भाई-बहन माध्यमिक शिक्षा से आगे नहीं पढ़ पाए हैं ,लेकिन बक्शो देवी किसी भी तरह से उच्च शिक्षा हासिल करना चाहती है साथ ही वे खेलों में भी ऊंचा स्थान हासिल करने का जज्बा रखती हैं। बख्शो देवी अपने 10 वर्षीय भाई को भी पढ़ाना चाहती है।

बक्शो की कहानी मन में कई सवाल छोड़ जाती है , और जवाब चुप चाप शून्य को ताका करते हैं ।

प्रतिक्रिया दीजिए