फटाफट TOP 10: आज की 10 बड़ी खबरें
जब एक फोटो ने कारण मायावती ने काट दिया टिकट
क्या हुआ जब मज़दूर को दुत्कार कर भगाया इंस्पेक्टर ने : रियल लाइफ का सिंघम
नहीं है छत, नहीं है दीवारें, बस खून-पसीने की मेहनत और खड़ा किया देश का सबसे अनूठा स्कूल
जब IAS अधिकारी का पद छोड़ अध्यापक बन गया 24 साल का युवक
इस गाँव में होती है अफसरों की फसल :
नए साल की धमाकेदार शुरुआत, हुआ पहला घोटाला :जानिये कौन है ये नया लुटेरा
बदलने लगी है भारतीय रेलवे की तस्वीर : ऐसे होंगे नए कोच
इसलिए सेक्स से डरती हैं लडकियां
क्या किसी देश की राष्ट्रपति इतनी हॉट हो सकती है?
पठानकोट हमले का खुलासा किसने लगाई सुरक्षा में सेंध ?
और फिर हम कहते हैं कि सरकार काम नहीं कर रही : क्या इस तरह आएंगे अच्छे दिन?
जब ऑड ईवन फार्मूले पर निकला एक दिल्ली वाले का दर्द : जानिये क्या क्या कहा
पैन कार्ड नहीं है तो हो जाएँ आज से सावधान
हैवानियत का चरम : क्या हुआ ISIS के चंगुल से भागी इन दो लड़कियों के साथ
नीच ISIS का एक और कुकृत्य हुआ उजागर: दासियों से बलात्कार के भी बनाये नियम
न्यू ईयर पार्टी में जाने से पहले जरूर रखें इन बातों का ख्याल
साल 2015: क्या क्या हुआ दुनिया भर में: Special Report News75
इस फिल्म में सनी लीओन ने दिखाया अपना फुल पोर्न रूप , दिए जमकर न्यूड सीन
साल भर में जनता को क्या दिया मोदी ने - डिजिटल लॉकर से स्मार्ट सिटी तक, News75 Special, साल 2015
भारत की पहली मस्जिद- चेरामन जुमा मस्जिद – मेथला,केरल

629ईस्वी में केरल के मेथला में बनी चेरामन जुमा मस्जिद को भारत में बनी पहली मस्जिद माना जाता है। प्राचीन काल से ही अरब व्यापारियों का भारत के मालाबार तट पर व्यापारिक कारणों से आना जाना शरू हो गया था। मालाबार तट, जिस पर केरल बसा हुआ है, भारत और दक्षिणपूर्व एशिया के बीच एक प्रमुख व्यापारिक केंद्र हुआ करता था। जब पैगम्बर मोहम्मद अरब में इस्लाम का विस्तार कर रहे थे, उसी वक़्त अरब व्यापारियों के द्वारा भी दुनिया भर में इस्लाम का सन्देश फैलाया जा रहा था ।

केरल में चेरा राज्य के शासक चेरामन पेरूमल भी अरब व्यापारियों के संपर्क में आए और उन्होंने इस्लाम को जानने में रूचि दिखायी। इसी भावना के साथ चेरामन पेरूमल ने अरब यात्रा की और पैगम्बर मोहम्मद से मुलाकात की। पैगम्बर मोहम्मद से मुलाकात के बाद चेरा राज्य के शासक ने इस्लाम धर्म को अपना लिया लेकिन अरब से वापसी के वक़्त रास्ते में ही उनकी मृत्यु हो गयी। चेरामन पेरूमल को सल्लाह,ओमान में दफनाया गया, उन्होंने अपने साथ यात्रा कर रहे अरब व्यापारी मलिक बिन दीनार के हाथो अपने रिश्तेदारों को संदेश भिजवाया कि वो चेरा राज्य में एक मस्जिद का निर्माण कराये और इस्लाम की शिक्षा के प्रसार में सहयोग दे। मेथला में जहाँ ये मस्जिद बनायीं गयी है, उसका नाम चेरामन पेरुमन और मलिक बिन दीनार के नाम पर चेरामन मलिक नगर रखा गया और मस्जिद का नाम चेरामन जुमा मस्जिद रखा गया।

चेरामन जुमा मस्जिद का नवीनीकरण कई बार किया जा चुका है लेकिन इसके मुख्य दरबार को संरक्षित रखा गया है। इस मस्जिद में जलने वाले “दिये” को एक हज़ार साल से भी ज्यादा पुराना बताया जाता है । मुस्लिम और गैर मुस्लिम धर्म के सभी लोग यहाँ आ कर इस “दिये” के लिए तेल दान करते है।

चेरामन जुमा मस्जिद भारत और इस्लाम के प्राचीन सम्बंध को स्थापित करती है और इस बात की गवाह है कि भारत में इस्लाम पैगम्बर मोहम्मद के समय ही अपनी उपस्तिथि दर्ज करा चुका था ।

प्रतिक्रिया दीजिए