दक्षिण अफ्रीका के इस खिलाड़ी ने दी क्लीन स्वीप की चेतावनी
दावोस की खूबसूरती में लगा चार चांद, बैठक से पहले पीएम मोदी ने बर्फबारी का उठाया लुत्फ
लालू ने जेल से ही बोला मोदी और नीतीश पर हमला ,ट्विटर पर लिखा-रौंदोगे तो हिमाला बनूँगा, विष दोगे तो शिवाला बनूँगा...!
पाकिस्तान को करारा जवाब, बीएसएफ ने 9000 गोले दागकर दुश्मनों के चौकियों और तेल डिपो को उड़ाया
भ्रूण लिंग परीक्षण रैैकेट का पर्दाफाश, सरपंच गिरफ्तार
पद्मावत की रिलीज से पूर्व देखने को तैयार करणी सेना
न्यायालय में लोया मामले में सुनवाई के दौरान हुई तीखी बहस
कुमार विश्वास ने अरविंद केजरीवाल पर किए ताबड़तोड़ हमले
केजरीवाल बोले, दिल्ली पर थोपे गए उपचुनाव से विकास में आएगी रकावट
`पद्मावत`: SC में पुनर्विचार याचिका पर सुनवाई आज, करणी सेना रिलीज से पहले फिल्म देखने को तैयार
जम्मू में एके-47 चुराकर फरार एसपीओ गिरफ्तार
आरएसएस की पत्रिकाएं ‘उदारवाद का स्वर्णिम उदाहरण’ हैं: स्मृति ईरानी
दुनिया के किसी भी देश ने निस्वार्थ भाव से अफगानिस्तान में इतना काम नहीं किया जितना अमेरिका ने
गणतंत्र दिवस परेड की झांकी में साँची के स्तूप की झलक
दावोस में पहली बार होगा योग, दुनिया के नेताओं को सुबह-शाम आसन कराएंगे बाबा रामदेव के शिष्य
डब्ल्यूईएफ : मोदी ने शीर्ष वैश्विक कंपनियों के सीईओ से की मुलाकात
आज है रेवती नक्षत्र, बनना चाहते हैं करोड़पति तो करें इनमें से कोई 1 उपाय
मोदी ने स्विट्जरलैंड के राष्ट्रपति से की मुलाकात
सैयद मुश्ताक अली ट्रोफी में सुरेश रैना का धमाका, 49 गेंदों में बनाये इतने रन
मल्टीस्टार कॉमेडी फिल्म `वेलकम टू न्यूयॉर्क` का ट्रेलर रिलीज
`निर्भया` के हत्यारे को नहीं है कोई भी अफ़सोस

जेहन को झखझोर देने वाली 16 दिसंबर 2012 की वो खबर आज तक हर नागरिक को चुभती है , मगर आप ये जानकर हैरान हो जाएंगे कि `निर्भया` के साथ सबसे क्रूर अत्याचार करने वाले नाबालिग ` दरिंदे मोहम्मद अफ़रोज़ ` को इस बात का कोई अफ़सोस नहीं है | आपको मालूम होगा कि दिल्ली उच्च न्यायालय द्वारा उस दरिंदे को बीते रविवार रिहाई दे दी गयी है | मगर जिस सुधार गृह में वह रहा है वहां के स्टाफ का कुछ और ही कहना है | सुधार गृह के कर्मचारियों के मुताबिक़ अपराधी के चेहरे पे हमेशा एक घृणित चुप्पी ही रही , न तो उसे अपने किये का कोई अफ़सोस रहा और ना ही कोई संवेदना जो अन्य बाल अपराधियों में होती है | जब वह अपराधी बना था तब उसकी उम्र साढ़े 17 साल थी अब वह 21 का हो चुका है | जिन लोगों ने उसे बड़ा होते देखा है उनका कहना है कि वह एक बड़ा अपराधी बन सकता है |

सुधार गृह के मोविज्ञानिकों का भी मानना है कि जिस तरह की पृवत्ति अफ़रोज़ की है वह समाज में आज़ाद नहीं रखा जा सकता है | मनोचिकित्सकों की मानें तो अफ़रोज़ के खतरनाक होने का प्रमाण इस बात से मिल जाता है , कि सुधार गृह में कोई भी बच्चा उससे दोस्ती नहीं रखना चाहता था | इतना ही नहीं कॉउन्सिलिंग के दौरान भी वो मनोचिकित्सकों से यही कहता था कि मैं अकेला रहना चाहता हूँ | ये सभी बातें भविष्य में अन्य लड़कियों के लिए कितनी खतरनाक हो सकती हैं, इस पर विचार शायद उन लोगों ने नहीं किया होगा जो उसकी रिहाई के पक्ष में हैं |

सुधार गृह के अन्य बालकों का भी यही कहना है, कि वह न तो साहित्य के प्रति कोई लगाव रखता था और न ही उसे सुधार गृह में अपने बंदी होने का कोई पछतावा था | वह बेफिक्र खाता , घूमता और सोता था | उसकी अम्मी उससे निरंतर मिलने आती थीं , जिससे वह काफी बातें किया करता था | सुधार गृह के अधिकारी उसे उसके गाँव में वापस भेजने को लेकर शंकित हैं, वहीं उसके निडर और कॉन्फिडेंट स्वाभाव ने कई सवालों को जन्म दे दिया है |

मोहम्मद अफ़रोज़ वही है जिसने रॉड से पीड़ित की हत्या की थी | और उसके बेशर्म वकीलों ने वयस्क होने में छः महीने की कमी को मुद्दा बना कर , उसे अपराधी से बाल अपराधी घोषित करवा दिया | हैरत की बात ये है कि अफ़रोज़ की वकील एक महिला है | मोहम्मद अफ़रोज़ समाज में किस रूप में दाखिल होगा, आगे क्या क्या करेगा इस पर भी न्यायालय ने पर्दा डाल दिया है| अफ़रोज़ का चेहरा किसी ने नहीं देखा , ऐसे में आम जनमानस उससे सावधान भी नहीं रह सकता | वहीं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने दरिंदे अफ़रोज़ को एक सिलाई की मशीन और दस हज़ार रुपये देने का एलान किया है | न्यायालय अपनी जगह खड़े हैं , राजनीति अपनी जगह कायम है, बस संवेदनाओं का ही शायद इस माहौल में कोई स्थान नहीं |

प्रतिक्रिया दीजिए